क्या है रोबोटिक सर्जरी? पूर्ण जानकारी (Robotic Surgery in Hindi)

रोबोटिक सर्जरी (Robotic Surgery) मेडिकल सांइस के विकास का जीता- जागता उदाहरण है।

आमतौर पर, लोगों के मन में इस सर्जरी को बहुत सारी शंकाएं रहती हैं, क्योंकि वे ऐसा मानते हैं कि उन्हें सर्जरी को कराने में बहुत सारी परेशानियां होगी।

इसी कारण वे सर्जरी को कराने से बचते हैं और इसके परिणामस्वरूप उनकी सेहत काफी खराब हो जाती है।

यदि उन्हें रोबोटिक सर्जरी के बारे में पता होता तो शायद उन्हें भी कई सारी समस्याओं से निजात मिल जाती।

तो आइए इस लेख के माध्यम से रोबोटिक सर्जरी की संपूर्ण जानकारी प्राप्त करते हैं, ताकि लोगों को इस सर्जरी के प्रति जागरूकता बढ़ सकें और वे इस सर्जरी का लाभ उठा सकें।

क्या आप भी इस सर्जरी के बारे में विस्तार से जानना चाहते हैं, तो आपको इस लेख को जरूर पढ़ना चाहिए।

क्या है रोबोटिक सर्जरी (Robotic Surgery in Hindi)

रोबोटिक सर्जरी (Robot Assisted Surgery) से तात्पर्य ऐसी सर्जरी से है, जिसे रोबोट आर्म या मैन्यवल तरीके से किया जाता है। इसकी प्रक्रिया काफी हद तक लेप्रोस्कोपिक सर्जरी की तरह ही होती है, लेकिन इसमें केवल यह अंतर होता है कि इस सर्जरी में कंप्यूटर की सहायता ली जाती है।

रोबोटिक सर्जरी कितने प्रकार की होती है? (Types of Robotics Surgery in Hindi)

रोबोटिक सर्जरी मुख्य रूप से 5 प्रकार की होती है, जो इस प्रकार हैं-

  1. रोबोटिक गायनेकोलॉजिस्ट सर्जरी-  कुछ महिलाओं के लिए, रोबोटिक गायनेकोलॉजिस्क सर्जरी (Robotic Gynecologic Surgery), ओपन सर्जरी या मानक लेप्रोस्कोपिक प्रक्रियाओं का एक अच्छा विकल्प साबित हो सकता है।

    ओपन गायनेकोलॉजिस्ट सर्जरी (Open Gynecologic Surgery), जिसमें पेट में एक बड़ा चीरा लगाया जाता है, ताकि सर्जन गर्भाशय या उसके आस-पास के अंगों का इलाज कर सकें।

  2. रोबोटिक प्रोस्टेट सर्जरी- कई सारे अध्ययनों से इस बात का पता चला है कि प्रोस्टेट कैंसर के लिए सबसे प्रभावी उपचारों में से एक रेडिकल प्रोस्टेटैक्टोमी (Redical Prostatectomy) है।
    रेडिकल प्रोस्टेटैक्टोमी से तात्पर्य ऐसी प्रक्रिया से है ,जिसमें प्रोस्टेट और उसके आस-पास के कैंसर के टिशू को हटाया जाता है।

  3. रोबोटिक किडनी सर्जरी- किडनी मुख्य रूप से कई सारी स्थितियों जैसे डायबिटीज, उच्च रक्तचाप, कैंसर, पथरी इत्यादि में खराब हो सकती हैं।

    ऐसी स्थिति में डॉक्टर किडनी डायलेसिस या किडनी ट्रांसप्लांट सर्जरी कराने की सलाह देते हैं, इन सर्जरी को भी रोबोटिक किडनी सर्जरी (Robotic Kidney Surgery) के नाम से जाना जाता है।

  4. रोबोटिक कोलोरेक्टल सर्जरी- रोबोटिक कोलेटॉमी सर्जरी के दौरान, सर्जन बृहदान्त्र (colon) और मलाशय (rectum) के कैंसर के हिस्सों को हटाते हैं।

    रोबोट की सहायता से सर्जन कैंसर को निकालने के बाद दो सिरों को फिर से जोड़ पाते हैं।

  5. रोबोटिक स्पाइन सर्जरी- जैसा कि नाम से स्पष्ट है कि रोबोटिक स्पाइन सर्जरी से तात्पर्य ऐसी सर्जरी से है, जिसे पीठ के दर्द को कम करने के लिया जाता है।

    डॉक्टर इस सर्जरी को उस व्यक्ति पर करते हैं, जिसे तमाम कोशिशों के बाद भी पीठ दर्द से छुटकारा नहीं मिलता है।

रोबोटिक सर्जरी को कब किया जाता है? (Indications of Robotics Surgery in Hindi)

रोबोटिक सर्जरी को कराने की सलाह डॉक्टर कुछ विशेष स्थिति में ही देते हैं, जो इस प्रकार हैं-

 

  • प्रोस्टेट कैंसर का इलाज करना- यदि किसी व्यक्ति को प्रोस्टेट कैंसर की समस्या होती है, तो उस स्थिति में रोबोटिक सर्जरी को किया जाता है।

    इस सर्जरी के द्वारा प्रोस्टेट में मौजूद कैंसर के टिशू को निकाला जाता है।

आप नीचे दी गई वीडियों को देखकर रोबोटिक सर्जरी से प्रोस्टेट कैंसर के इलाज के बारे में जान सकते हैं

IFrame

  • किडनी कैंसर का पता लगाना- कई बार डॉक्टर रोबोटिक सर्जरी को किडनी कैंसर का पता लगाने के लिए भी करते हैं।

    रोबोटिक सर्जरी के द्वारा इस बात का पता लगाया जाता है, कि मानव शरीर में किडनी कैंसर किस हद तक बढ़ गया है।

  • रसौली का पता लगाना- यदि किसी महिला को पेट में असहनीय दर्द होता है, तो उसके लिए भी इस सर्जरी को कराने की सलाह देते हैं क्योंकि ऐसा रसौली के कारण भी हो सकता है।

  • मासिक धर्म का अनियमित रूप से होने का इलाज करना- यदि किसी महिला को मासिक धर्म नियमित रूप से नहीं होते हैं, तो कई बार डॉक्टर उसे रोबोटिक सर्जरी को कराने की सलाह देते हैं।

    इस सर्जरी के द्वारा डॉक्टर इस समस्या के कारण का पता लगाने की कोशिश करते हैं।

  • एंडोमेट्रियोसिस (Endometriosis) का इलाज करना- कई बार रोबोटिक सर्जरी को एंडोमेट्रियोसिस का इलाज करने के लिए भी किया जाता है, क्योंकि इस समस्या के लिए यह सर्जरी सर्वोत्त्म इलाज होती है।

    जब किसी महिला के गर्भाशय के भीतर के टिशू बाहर की ओर उभर आते हैं तो उस स्थिति को एंडोमेट्रियोसिस कहा जाता है।

रोबोटिक सर्जरी को कैसे किया जाता है? (Procedure of Robotic Surgery in Hindi)

रोबोटिक सर्जरी को रोबोट की सहायता से किया जाता है, जिसे द विंची सर्जिकल सिस्टम (da Vinci Surgical System) नाम से जाना जाता है।

 

इस प्रक्रिया के कुछ महत्वपूर्ण स्टेप शामिल होते हैं, जो इस प्रकार हैं-

  • स्टेप 1: सर्जन का विशेष कंसोल में बैठना- इस पूरी प्रक्रिया के दौरान सर्जरी विशेष कंसोल में बैठे रहते हैं, जहां पर वे इस पूरी प्रक्रिया पर अपनी नज़र बना कर रखते हैं।

  • स्टेप 2: 3 डी कैमरे का उपयोग करना-  व्यक्ति के भीतर छोटे से 3 डी कैमरे और डाइम के आकार का सर्जिकल उपकरण को छोटे चीरों के माध्यम से रखा जाता है।

    यह कैमरा सर्जन को ऑपरेटिव क्षेत्र का एक शानदार 360 डिग्री दृश्य देता है, जिससे वे इस सर्जरी को आसानी से कर पाते हैं।

  • स्टेप 3: रोबोटिक आर्मस को चलाना- 3 डी कैमरे के द्वारा दिखाए गए दृश्य के अनुसार सर्जन रोबोटिक आर्मस को चलाते हैं।

    दूसरी ओर अन्य सर्जन शल्य चिकित्सा उपकरणों के सही स्थान की पुष्टि करने के लिए ऑपरेटिंग टेबल पर होता है।

  • स्टेप 4: बीमारी का इलाज करना- 3 डी कैमरा और सर्जिकल उपकरणों की सहायता से सर्जन बीमारी का इलाज करते हैं।

    इसके साथ ही रोबोटिक सर्जरी समाप्त हो जाती है।

  • स्टेप 5: व्यक्ति को डिस्चार्ज करना- इस सर्जरी के दौरान व्यक्ति को कुछ समय के लिए अस्पताल पर रखते हैं और उसके बाद वह उसे डिस्चार्ज कर देते हैं।

रोबोटिक सर्जरी की कीमत क्या है? (Cost of Robotic Surgery in Hindi)

जब बात रोबोटिक सर्जरी को कराने की बात आती है, तो इसके लिए दिल्ली-NCR से बेहतर और कोई जगह हो ही नहीं सकती है।

भारत की राजधानी होने के कारण यहां पर रोबोटिक सर्जरी के लिए सर्वोत्तम अस्पताल/क्लीनिक मौजूद हैं।

ज्यादातर लोग इस सर्जरी को कराने से हिचकते हैं क्योंकि उनके लिए रोबोटिक सर्जरी को कराना काफी महंगा पड़ता है, लेकिन यदि उन्हें यह पता हो कि यह एक किफायदी प्रक्रिया है, जिसकी औसतन कीमत 1.5 लाख होती है, तो शायद वे भी इस सर्जरी का लाभ उठा सकते।

रोबोटिक सर्जरी की यह कीमत कई सारे तत्वों पर निर्भर करती है,जो इस प्रकार हैं-

  1. अस्पताल- रोबोटिक सर्जरी की कीमत इस बात पर काफी हद तक निर्भर करती है, कि इसे किस अस्पताल पर कराया जा रहा है।

    इसी कारण व्यक्ति को कराने से पहले अस्पताल का चयन काफी सोच- समझकर कर करना चाहिए ताकि इसका असर उसकी जेब पर न पड़े।

  2. सर्जरी के प्रकार- जैसा कि ऊपर स्पष्ट किया गया है कि रोबोटिक सर्जरी कई प्रकार (देखें- रोबोटिक सर्जरी के प्रकार) की होती है, ऐसे में इसकी कीमत उसके प्रकार भी निर्भर करती है।

  3. जगह- रोबोटिक सर्जरी की लागत इसे कराई जाने वाली जगह पर भी निर्भर करती है इसलिए व्यक्ति को रोबोटिक सर्जरी की जगह का चयन काफी सोच-समझकर करना चाहिए।

  4. सर्जन का अनुभव- इस सर्जरी की कीमत सर्जन के अनुभव पर काफी हद तक निर्भर करती है।

रोबोटिक सर्जरी के लाभ क्या होते हैं? (Advantage of Robotic Surgery in Hindi)

यह एक लाभकारी सर्जरी है, जिसके कई सारे लाभ होते हैं, जिनमें से कुछ इस प्रकार हैं-

  1. सटीकता का होना- रोबोटिक सर्जरी का प्रमुख लाभ यह है कि यह काफी सटीक होती है।

    इससे व्यक्ति को उस बीमारी से छुटकारा मिल जाता है, जिसका इलाज कराने के लिए उसने इस सर्जरी को कराने आया था।

  2. कम दर्द का होना करना- चूंकि, इस सर्जरी को रोबोट की सहायता से किया जाता है, इसी कारण इस दौरान व्यक्ति को किसी तरह का दर्द नहीं होता है।

  3. छोटे कट को लगाना- अन्य सर्जरी की तुलना रोबोटिक सर्जरी में काफी छोटे कट को बनाया जाता है।

    ये कट समय के साथ स्वयं ही भर जाते हैं।

  4. कम घाव का होना- इस सर्जरी को कराने वाले व्यक्ति को इस सर्जरी के दौरान किसी तरह की परेशानी नहीं होती है और इसके साथ में उसे इस पूरी प्रकिया में किसी तरह का घाव भी नहीं होता है।

  5. सेहत में जल्दी से सुधार होना- रोबोटिक सर्जरी का अन्य लाभ यह होता है कि इसके बाद व्यक्ति की सेहत में काफी कम समय में आराम हो जाता है।

    इस सर्जरी के बाद कुछ ही समय में सामान्य गतिविधियों को कर सकता है।

रोबोटिक सर्जरी के कौन-कौन से नुकसान होते हैं? (Disadvantages of Robotic Surgery in Hindi)

निश्चित रूप से रोबोटिक सर्जरी एक लाभकारी प्रक्रिया है, जो कई सारी बीमारियोें को कम करने में सहायक होती है।

इसके बावजूद किसी भी अन्य सर्जरी की तरह रोबोटिक सर्जरी के भी कुछ जोखिम होते हैं, जिनके बारे में जानना महत्वपूर्ण होता है।

रोबोटिक सर्जरी के मुख्य रूप से 4 जोखिम होते हैं, जो इस प्रकार हैं-

  1. महंगी प्रक्रिया का होना- जैसा कि ऊपर स्पष्ट किया गया है कि रोबोटिक सर्जरी की कीमत थोड़ी अधिक होती है, ऐसे में इसे आम नागरिक के लिए कराना मुश्किल होता है।

    हालांकि, ऐसे लोगों के लिए मेडिकल लोन की सुविधा मौजूद है।

  2. शरीर के अंग की कार्यक्षमता का कम होना- कई बार ऐसा भी देखा गया है कि इस सर्जरी के बाद कुछ लोगों के शरीर के अंग की कार्यक्षमता पर असर पड़ता है।

  3. संक्रमण का होना- कुछ लोगों को इस सर्जरी के बाद कई तरह के संक्रमण हो जाते हैं।

    हालांकि, ये संक्रमण कुछ समय में ठीक हो जाते हैं लेकिन कई बार इन संक्रमणों को ठीक होने में काफी समय लग जाता है और उस स्थिति में मेडिकल सहायता की जरूरत पड़ती है।

  4. ब्लड क्लोट्स का होना- इस सर्जरी के बाद कुछ लोगों को ब्लड क्लोट्स की समस्या भी हो जाती है और ऐसी स्थिति में उन्हें डॉक्टर से संपर्क करने और इसका बेहतर इलाज कराने की जरूरत पड़ सकती है।

  5. सर्जरी का असफल होना- कई बार ऐसा भी देखा गया है कि अक्सर इस सर्जरी के परिणाम कुछ लोगों के लिए सकारात्मक नहीं होते हैं।

    ऐसी स्थिति में उन्हें रोबोटिक सर्जरी को फिर से कराने की जरूरत होती है और उसके लिए ऐसा करना काफी कष्टदायक भी होता है।

जैसा कि हम सभी यह जानते हैं मेडिकल सांइस ने काफी विकास कर लिया है और अब किसी भी बीमारी का इलाज संभव है।

अब ऐसी बहुत सारी सर्जरी मौजूद हैं, जिनमें किसी तरह की असुविधा नहीं होती है, उनमें रोबोटिक सर्जरी भी शामिल है, जो पूरी तरह से सुरक्षित होती है और इसमें व्यक्ति को किसी तरह का दर्द नहीं होता है।

इसके बावजूद ऐसे बहुत सारे लोग हैं, जो इस सर्जरी की संपूर्ण जानकारी न होने के कारण इसका लाभ नहीं उठा नहीं पाता है।

यदि उन्हें भी रोबोटिक सर्जरी (Robotics Surgery) की पूर्ण जानकारी होती, तो शायद वे भी इसे अपना पाते।

इस प्रकार हमें उम्मीद है कि आपके लिए इस लेख को पढ़ना उपयोगी साबित हुआ होगा क्योंकि हमने इस लेख में रोबोटिक सर्जरी से संबंधित आवश्यक जानकारी देने की कोशिश की है।

यदि आप या आपकी जान-पहचान में कोई व्यक्ति रोबोटिक सर्जरी के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहता है तो वह इसके लिए 95558-12112 पर Call करके इसकी मुफ्त सलाह ले सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *