क्या है नाक की सर्जरी? पूर्ण जानकारी (Nose Surgery in Hindi)

Introduction

नाक की सर्जरी (Nose Surgery) को कई नामों जैसे राइनोप्लास्टी (Rhinoplasty) या नॉज़ रीशेपिंग सर्जरी (Nose Reshaping Surgery) इत्यादि से जाना जाता है। इसका उपयोग कई सारी मशहूर हस्तियों द्वारा किया जाता है, इसी कारण यह एक लोकप्रिय सर्जरी के रूप में उभरी है। ऐसे बहुत सारे लोग हैं, जो अपनी नाक समस्याओं से काफी परेशान हैं, उन्हें इसकी वजह से काफी शर्मिंदा होना पड़ता है। इसी कारण वे ऐसे तरीके की तलाश में रहते हैं, जिससे उन्हें इस समस्या से निजात मिल सके। इस स्थिति में डॉक्टर उन्हें नाक की सर्जरी कराने की सलाह देते हैं, लेकिन चूंकि उन्हें नाक की सर्जरी की पूर्ण जानकारी नहीं होती है, इसलिए वे इसे कराने से झिचकते हैं।

क्या आप भी इसी प्रश्न से परेशान हैं कि आखिरकार क्या है नाक की सर्जरी? तो आपको और परेशान होने की जरूरत नहीं है क्योंकि इस लेख को पढ़कर आपको नाक की सर्जरी से संबंधित सभी प्रश्नों के उत्तर मिल जाएगें।

क्या है नाक की सर्जरी? (Nose Surgery in Hindi)

नाक की सर्जरी या राइनोप्लास्टी (Rhinoplasty) से तात्पर्य ऐसी सर्जरी से है, जिसमें किसी व्यक्ति के नाक का ऑपरेशन करके उसे नया आकार दिया जाता है। नाक का ऑपरेशन को करने का प्रमुख उद्देश्य नाक के आकार को बदलना, सांस लेने की क्षमता को बढ़ाना या दोनों हो सकता है। नाक की संरचना का ऊपरी हिस्से पर हड्डी है, और निचला हिस्से पर उपास्थि (cartilage) होते हैं। नाक की सर्जरी के द्वारा नाक की हड्डी, उपास्थि (cartilage), त्वचा या इन फिर इन तीनों को बदला जा सकता है।

नाक की सर्जरी क्यों की जाती है? (Indications of Nose Surgery in Hindi)

नाक की सर्जरी को मुख्य रूप से नाक की खुबसूरती को बढ़ाने के लिए किया जाता है, इसके अलावा इसे अन्य कई कारणों से भी किया जा सकता है, जिनमें से कुछ इस प्रकार हैं-

  1. नाक के आकार को बदलना- इस सर्जरी को मुख्य रूप से नाक के आकार को बदलने के लिए किया जाता है।

    इसके माध्यम से नाक के आकार को कम, इसके आकार को बढ़ाया इत्यादि किया जा सकता है।

  2. चपटी नाक को ठीक करना- यदि कोई व्यक्ति चपटी नाक के कारण परेशान रहता है तो उसकी इस समस्या का समाधान नाक की सर्जरी के द्वारा किया जा सकता है।

  3. नाक की चोट को ठीक करना- नाक की सर्जरी को उस स्थिति में किया जा सकता है, जब किसी व्यक्ति की नाक पर चोट लग जाती है।

    इस सर्जरी में नाक की हड्डी को ठीक करके नाक की चोट को ठीक किया जाता है।

  4. नाक संबंधी जन्मजात विकार को ठीक करना- यदि किसी व्यक्ति को नाक संबंधी कोई जन्मजात विकार जैसे नाक में गांठ (nose lump), नाक की हड्डी का बढ़ना (nose masses), फांक (nose clefts) इत्यादि होती है, तो ऐसी स्थिति में नाक की सर्जरी ही एकमात्र विकल्प बचता है।

  5. सांस लेने की समस्या का समाधान करना- इस सर्जरी को उस स्थिति में किया जाता है, जब किसी व्यक्ति को सांस लेने की समस्या होती है।

    नाक की सर्जरी के द्वारा सांस संबंधी समस्या को ठीक किया जाता है।

  6. हीमोफीलिया का होना- यदि किसी व्यक्ति को हीमोफोलिया की समस्या होती है, तो उसका समाधान नाक की सर्जरी के द्वारा किया जा सकता है।

    इस समस्या में व्यक्ति की नाक से निरंतर रूप से खून निकलता रहता है और कई बार स्थिति इतनी खराब हो जाती है कि इस वजह से व्यक्ति को काफी कमजोरी भी महसूस होती है।

ज्यादातर लोग नाक की सर्जरी को केवल कॉस्मेटिक सर्जरी के रूप में ही देखते हैं, लेकिन इसका उपयोग अन्य समस्याओं में भी किया जा सकता है।

अधिक जानने के लिए कृपया नीचे दी गई वीडियो को देखें-IFrame

नाक की सर्जरी की तैयारी कैसे करें? (Preparation of Nose Surgery in Hindi)

यदि किसी व्यक्ति को नाक की सर्जरी करानी है, तो इस सर्जरी से पहले उसे डॉक्टर से मिलना चाहिए ताकि डॉक्टर उसे इस सर्जरी के लिए तैयार कर सके।

नाक की सर्जरी को करने से पर्याप्त तैयारी की आवश्यकता होती है, ताकि इस सर्जरी को सही तरीके से किया जा सके, इसके लिए निम्नलिखित कार्यों को किया जाता है-

  • चिकित्सा इतिहास की जांच करना- नाक की सर्जरी को कराने से पहले व्यक्ति की चिकित्सा इतिहास (Medical History) की जांच करते हैं, जिससे इस बात का पता चलता है कि इस सर्जरी का उस व्यक्ति के स्वास्थ पर कोई बुरा असर नहीं पड़ेगा।

  • स्वास्थ की जांच करना- इस सर्जरी को करने से पहले व्यक्ति के स्वास्थ की अच्छी तरह से जांच की जाती है, जिसमें उसके रक्त की जांच, एक्स-रे इत्यादि को किया जाता है।

  • नाक की तस्वीर लेना- कई बार डॉक्टर नाक की तस्वीर भी हर पहलू से लेते हैं, ताकि नाक के आकार का विश्लेषण सही तरीके से किया जा सके।

  • दवाईयोंं का सेवन न करना- यदि इस सर्जरी को कराने वाला व्यक्ति किसी तरह की दवाई लेता है, तो उसे डॉक्टर उस दवाई को न लेने की सलाह देते हैं क्योंकि ये दवाई रक्तस्राव की संभावना को बढ़ा सकती हैं।

  • ध्रूमपान को न करना- यदि नाक की सर्जरी से पहले व्यक्ति ध्रूमपान को करता है, तो उसे इसे बंद कर देना चाहिए क्योंकि ध्रूमपान इस सर्जरी के बाद व्यक्ति के सुधार के समय को प्रभावित कर सकता है इसके साथ में यह संक्रमण की संभावना को भी बढ़ा सकता है।

नाक का ऑपरेशन कैसे होता है? (Procedure of Nose Surgery in Hindi)

राइनोप्लास्टी (Rhinoplasty) सर्जरी को किसी अस्पताल, डॉक्टर के ऑफिस या क्लीनिक में किया जा सकता है।

इस नाक की सर्जरी में कुछ महत्वपूर्ण स्टेप शामिल होते हैं, जो इस प्रकार हैं-

  • स्टेप 1: व्यक्ति को एनेस्थीसिया देना- इस सर्जरी के आरंभ में व्यक्ति को एनेस्थीसिया दिया जाता है ताकि इस पूरी प्रक्रिया के दौरान किसी तरह की असुविधा न हो और इस सर्जरी को आराम से किया जा सके।

  • स्टेप 2: नाक के भीतर कट लगाना- व्यक्ति को एनेस्थीसिया देने के बाद डॉक्टर उसकी नाक के भीतर को कट लगाते हैं।

    इस कट को नाक की हड्डी और उपास्थि के बीच में बनाया जाता है।

  • स्टेप 3: नाक की त्वचा और उपास्थि (cartilage) को अलग करना- नाक के भीतर कट को लगाने के बाद त्वचा की त्वचा और उपास्थि को अलग कर दिया जाता है।

  • स्टेप 4: नाक की त्वचा और टिशू को बदलना- नाक की त्वचा को उपास्थि को बदलने के बाद उसे बदल दिया जाता है।

    इसके परिणामस्वरूप ही नाक को नया आकार प्राप्त होता है।

  • स्टेप 5: नाक के अंदर लगाए गए कट पर टांके लगाना- नाक को नया आकार प्रदान के बाद डॉक्टर नाक के अंदर लगाए गए कट पर टांके लगाकर उसे ठीक कर देते हैं।

नाक की सर्जरी के बाद के महत्वपूर्ण कार्य कौन-कौन से हैं? (Post-Procedure of Nose Surgery in Hindi)

नाक की सर्जरी के पूरे होने के बाद कुछ महत्वपूर्ण कार्यों को किया जाता है, ताकि इसे कराने वाले व्यक्ति को किसी तरह की परेशानी न हो और इस बात का भी पता लगया जा सके कि वह अब ठीक है।

इस सर्जरी के बाद किए जाने वाले महत्वपूर्ण कार्य इस प्रकार हैं-

  1. मेटल या प्लास्टिक की पट्टी को लगाना- जैसा कि यह सर्जरी समाप्त होती है, वैसे ही व्यक्ति को सुधार कक्ष (Recovery Room) में ले जाया जाता है, जहां पर उसकी नाक में मेटल या प्लास्टिक की पट्टी को लगाया जाता है।

  2. ड्रीप पैड को लगाना- व्यक्ति को मेटल या प्लास्टिक की पट्टी को लगाने के साथ-साथ डॉक्टर ड्रीम पैड को भी लगाते हैं, ताकि उसे किसी तरह की परेशानी न हो।

  3. स्वास्थ को मॉनिटर करना- सुधार कक्ष में व्यक्ति के स्वास्थ को मॉनिटर किया जाता है, जिससे इस बात का पता लगाया जाता है कि उसे किसी तरह की परेशानी नहीं है और वह अब पूरी तरह से ठीक है।

  4. डिस्चार्ज करना- नाक की सर्जरी के बाद व्यक्ति को कुछ दिनों तक अस्पताल में ही रखा जाता है और जब इस बात की पुष्टि हो जाती है कि वह ठीक है तो डॉक्टर उसे डिस्चार्ज कर देते हैं।

नाक की हड्डी की सर्जरी का खर्चा कितना होता है? (Nose Surgery Price in Hindi)

जब भी कोई डॉक्टर किसी व्यक्ति को नाक की सर्जरी कराने की सलाह देते हैं, तो उसके मन में सबसे पहला सवाल इसके खर्चे को लेकर ही आता है क्योंकि इसका असर उसकी आर्थिक स्थिति पर पड़ता है।

ज्यादातर लोग इस सर्जरी को केवल इसी कारण ही नहीं कराते हैं क्योंकि वे इसे एक महंगी प्रक्रिया समझते हैं, लेकिन सच यह है कि नाक की सर्जरी या राइनोप्लास्टी एक किफायदी प्रक्रिया है, जिसका औसतन खर्चा 40 हजार से 2 लाख  होता है।

यह भी देखें- नाक की सर्जरी के सर्वोत्तम अस्पताल

नाक का ऑपरेशन कराने के फायदे क्या-क्या हैं? (Benefits of Nose Surgery in Hindi)

आज के दौर में बहुत सारे लोगों द्वारा नाक की सर्जरी को अपनाया जा रहा है, क्योंकि इसके निम्नलिखित फायदे होते हैं-

  1. आत्मविश्वास को बढ़ाना- जैसा कि ऊपर स्पष्ट किया गया है कि कुछ लोगों को नाक के अजीब आकार के कारण काफी शर्मिंदगी का सामना करना पड़ता है, ऐसी स्थिति में यह सर्जरी उन लोगों के आत्मविश्वास को बढ़ाने में सहायक होती है।

  2. सांस लेने की समस्या का समाधान करना- जिस व्यक्ति को सांस लेने में तकलीफ रहती है, उसके लिए यह सर्जरी काफी लाभकारी साबित होती है।

  3. नाक की टूटी हुई हड्डी को जोड़ना- नाक की सर्जरी को उस स्थिति में भी किया जाता है जब किसी व्यक्ति के नाक की हड्डी टूट जाती है।

    इस सर्जरी के माध्यम से नाक की टूटी हुई हड्डी को जोड़ा जाता है।

  4. साइनस की समस्या को ठीक करना- इस सर्जरी के द्वारा साइनस की समस्या भी ठीक हो जाती है।

    इस प्रकार नाक की सर्जरी या राइनोप्लास्टी सर्जरी साइनस से पीड़ित लोगों के लिए लाभकारी साबित होती है।

  5. जन्मजात विकार को ठीक करना- जैसा कि ऊपर स्पष्ट किया गया है कि नाक की सर्जरी को जन्मजात विकार को भी ठीक किया जाता है।

    इस सर्जरी के माध्यम से इन जन्मजात विकारों को भी ठीक किया जा सकता है।

  6. खर्राटों की समस्या को दूर करना- अक्सर कुछ लोगों को अपनी खर्राटों की समस्या के कारण काफी शर्मिंदा होना पड़ता है।

    ऐसे लोग इस सर्जरी के माध्यम से इस समस्या से निजात पा सकते हैं।

नाक की सर्जरी के नुकसान क्या-क्या हैं? (Nose Surgery Side-Effects in Hindi)

हालांकि, नाक की सर्जरी नाक के सौंदर्य को बढ़ाने का सर्वोत्तम तरीका है, इस दृष्टि से यह एक लाभदायक सर्जरी है, लेकिन इसके बावजूद किसी भी अन्य तरह की प्रक्रिया की तरह इस सर्जरी के भी कुछ नुकसान होते हैं, जिनके बारे में जानना जरूरी होता है।

नाक की सर्जरी के कुछ प्रमुख नुकसान इस प्रकार हैं-

  • रक्तस्राव होना- नाक की सर्जरी के बाद अत्याधिक मात्रा में रक्तस्राव (Bleeding) की समस्या हो जाती है।

    हालांकि, इस स्थिति में डॉक्टर सहायता की आवश्यकता पड़ सकती है।

  • संक्रमण होना- ऐसा देखा गया है कि कुछ लोगों को इस सर्जरी के बाद संक्रमण हो जाता है।

    यदि किसी व्यक्ति को ऐसी कोई समस्या होती है तो उसे तुंरत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए और इसका इलाज करना चाहिए।

  • सांस लेने में तकलीफ होना- कुछ लोग यह भी शिकायत करते हैं कि उन्हें नाक की सर्जरी को कराने के बाद सांस लेने में तकलीफ हो रही थी।

  • नाक में दर्द या सूजन होना- नाक की सर्जरी के बाद कुछ लोगों को नाक में दर्द या सूजन की समस्या भी हो सकती है।

  • नकसीर (nosebleed) का होना- ऐसा भी देखा गया है कि कुछ लोगों को इस सर्जरी के बाद नकसीर की समस्या हो जाती है।

  • उपास्थि वाल्व का खराब होना- नाक की सर्जरी का अन्य जोखिम उपास्थि वाल्व का खराब होना भी होता है।

    यदि सही समय पर इस समस्या पर काबू न पाया जाए, तो स्थिति और भी खराब हो सकती है और ऐसे में व्यक्ति को अस्पताल में भर्ती भी होना पड़ सकता है।

नाक की सर्जरी के बाद कौन-कौन सी सावधानियां अपनाएं? (Precautions after Nose Surgery in Hindi)

हालांकि, नाक की प्लास्टिक सर्जरी के बाद कुछ नुकसान हो सकते हैं, लेकिन इन नुकसान को कम करने के लिए कुछ सावधानियों को बरता जा सकता है, जो इस प्रकार हैं-

  1. ज़ोरदार गतिवधियों को न करना- यदि किसी व्यक्ति ने हाल ही में नाक की सर्जरी कराई है, तो उसे कोई ज़ोरदार गतिविधि जैसे जॉगिंग या एरोबिक इत्यादि को नहीं करना चाहिए क्योंकि यह उसकी सेहत पर बुरा असर डाल सकती हैं।

  2. शावर से नहाने से बचना- इस सर्जरी के बाद व्यक्ति को नहाते समय शावर का उपयोग नहीं करना चाहिए क्योंकि यह व्यक्ति के शरीर के ऊपर हिस्से पर दबाव डालता है, जिसका असर व्यक्ति की नाक पर पड़ता है।

  3. नाक को न छेड़ना- हालांकि, नाक की सर्जरी के बाद व्यक्ति को नाक में हलचल महसूस हो सकती है, लेकिन उसे इससे बर्दाशत करना चाहिए और उससे छेड़ना नहीं चाहिए।

  4. पेरासिटामोल या दर्द-निवारक दवाईयों को लेना- यदि इस सर्जरी के बाद किसी तरह का दर्द महसूस होता है तो व्यक्ति पेरासिटामोल या दर्द-निवारक दवाई ले सकता है।

    लेकिन उसे किसी भी दवाई को लेने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूर लेनी चाहिए।

  5. डॉक्टर के संपर्क में रहना- यदि किसी व्यक्ति ने हाल ही में नाक की सर्जरी कराई है, तो उसे तब तक डॉक्टर के संपर्क में रहना चाहिए, जब तक वे उसे पूरी तरह से स्वस्थ घोषित न कर दें।

जैसा कि हम सभी यह जानते हैं कि कुछ लोगों को अपनी चपटी नाक के कारण मज़ाक का पात्र बनना पड़ता है। वे इसे अपनी नियति मान लेते हैं और इससे समस्या से निजात पाने की कोशिश नहीं करते हैं।

लेकिन, यदि उन्हें यह पता होता कि चपटी नाक की सर्जरी या राइनोप्लास्टी के माध्यम से वे अपने नाक को सुंदर बना सकते हैं, तो शायद वे उन्हें इतना परेशान होने की जरूरत नहीं होती है।

इस प्रकार हमें उम्मीद है कि आपके लिए इस लेख को पढ़ना उपयोगी साबित हुआ होगा क्योंकि हमने इसमें नाक की सर्जरी (Nose Surgery) की संपूर्ण जानकारी देने की कोशिश की है।

यदि आप या आपकी जान-पहचान में कोई व्यक्ति नाक की सर्जरी (Nose Reshaping Surgery) के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहता है तो वह इसके लिए +91-8448398633 पर Call करके इसकी मुफ्त सलाह प्राप्त कर सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *