जानें डायबिटीज (मधुमेह) से जुड़ी आवश्यक जानकारी

डायबिटीज (मधुमेह) ऐसी बीमारी है, जिससे हर साल दुनिया भर में हजारों लोग प्रभावित होते हैं।


वर्तमान समय में मधुमेह (Diabetes in Hindi) से संबंधित आंकड़े काफी चौंकाने वाले हैं - हर साल मधुमेह के कारण 1.5 मिलियन लोगों की मौत हो जाती है।

विश्व भर में डायबिटीज की समस्या 9 प्रतिशत युवाओं में देखने को मिलती है। इनमें से अधिकांश लोग डाइप 1 और टाइप 2 मधुमेह से पीड़ित होते हैं।

चूंकि, कई सारे लोगों को डायबिटीज की संपूर्ण जानकारी नहीं है, इसी कारण यह बीमारी दिन-प्रति-दिन बढ़ रही है।

यदि आपको भी डायबिटीज (मधुमेह) की पूर्ण जानकारी नहीं है, तो आपको इस प्रस्तुत लेख को अवश्य पढ़ना चाहिए।

 

डायबिटीज (मधुमेह) क्या होता है? (Meaning of Diabetes in Hindi)

 

मधुमेह (डायबिटीज) एक ऐसी बीमारी है, जो शरीर की इंसुलिन का उत्पादन या उपयोग करने की क्षमता को प्रभावित करती है। इंसुलिन एक प्रकार का हार्मोन होता है, जो भोजन को उर्जा में बदलता है।

इंसुलिन इस ऊर्जा को कोशिकाओं तक पहुंचाने में सहायक होता है। अत: जब इंसुलिन पर्याप्त मात्रा में नहीं बनता है तो इसका असर पूरे शरीर पर पड़ता है। ऐसा मुख्य रूप से डायबिटीज के कारण होता है।

 


डायबिटीज (मधुमेह) के लक्षण कौन-कौन से होते हैं? (Symtoms of Diabetes in Hindi)

 

कुछ लोग डायबिटिज (मधुमेह) को एक आम बीमारी समझते हैं, इसी कारणवश वे इसकी बीमारी की ओर ध्यान नहीं देते हैं।

जिसके परिणामस्वरूप उन्हें काफी सारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

इसलिए किसी व्यक्ति मधुमेह के इन 5 लक्षणों को नज़रअदाज़ नहीं करना चाहिए, जो इस प्रकार हैं-


 

  1. बार-बार पेशाब करना- मधुमेह का सबसे प्रमुख लक्षण बार-बार पेशाब आना होता है।

     

  2. प्यास लगना- मधुमेह से पीड़ित व्यक्ति को काफी प्यास लगती है।

     

  3. भूख लगना- यह मधुमेह का अन्य लक्षण है, जिसमें व्यक्ति को भोजन करने के बाद भी तुरंत ही भूख लग जाती है।

     

  4. अत्याधिक थकावट महसूस होना- डायबिटीज से पीड़ित व्यक्ति शारीरिक रूप से काफी कमजोर हो जाता है।
     

  5. वजन कम होना- मधुमेह में व्यक्ति का वजन काफी तेज़ी से कम हो जाता है।


 

मधुमेह होने के कारण कौन-कौन से होते हैं? (Causes of Diabetes in Hindi)



मधुमेह से पीड़ित प्रत्येक व्यक्ति को इस बात का पता होना चाहिए कि उसे मधुमेह (डायबिटीज) की बीमारी किन कारणों से हुई है।

आमतौर पर मधुमेह (डायबिटीज) के मुख्य रूप से 5 कारण होते हैं, जो इस प्रकार हैं-

 

 

  1. इंसुलिन का न बनना- जब किसी व्यक्ति के शरीर में इंसुलिन का बनना पूरी तरह बंद हो जाता है, तो वह व्यक्ति मधुमेह (डायबिटीज) का शिकार बन जाता है।
     

  2. उच्च रक्त शर्करा स्तर (हाई ब्लड ग्लूकोज़ लेवल) का होना- कई बार ऐसा देखा गया है कि कई सारी महिलाओं में मधुमेह (डायबिटीज) की समस्या उस समय उत्पन्न होती है, जब वे गर्भवती होती है।

    हालांकि, गर्भवती महिलाओं में मधुमेह (डायबिटीज) की समस्या बच्चे को जन्म देने के बाद अपने-आप ठीक हो जाती है।

     

  3. आनुवंशिक कारण होना- कई बार मधुमेह (डायबिटीज) की समस्या आनुवंशिक कारण की वजह से भी हो सकती है।

    अगर किसी परिवार के सदस्य को मधुमेह (डायबिटीज) की समस्या है तो यह समस्या किसी अन्य सदस्य को भी हो सकती है।

  4. जीवन-शैली का अनियमित होना- जो व्यक्ति किसी नशीले पदार्थ का सेवन या धूम्रपान करता है, तो उसे मधुमेह (डायबिटीज) होने की संभावना अधिक होती है।
     

  5. मोटापा या वजन का अधिक होना- मधुमेह (डायबिटीज) होने की संभावना उन लोगोंं में अधिक होती है, जिनका वजन अधिक होता है।


 

चूंकि, मधुमेह (डायबिटीज) की बीमारी बहुत सारे लोगों में देखने को मिल रही है। इसी कारण उनमें इसे लेकर बहुत सारी शंकाएं रहती हैं।

हालांकि, वे मधुमेह (डायबिटीज) को ठीक करने के लिए बहुत सारे तरीकों जैसे व्यायाम करना, डाइट प्लान को बदलना, मेडिकल उत्पादों का सेवन करना इत्यादि को अपनाते हैं।

लेकिन जब उन्हें इन तरीकों से कोई भी लाभ नहीं पहुंचता है, तब उन्हें मेडिकल सहायता की जरूरत पड़ती है।

यदि मधुमेह के किसी भी रोगी को मधुमेह की संपूर्ण जानकारी हो तो वह इस बीमारी को हरा सकता है और एक नई ज़िदगी जी सकता है।

अन्य शब्दों में संतुलित आहार और नियमित दिनचर्या का पालन करके टाइप 1 और टाइप 2 मधुमेह से निजात पाया जा सकता है।

अधिकांश लोग मधुमेह को एक लाइलाज बीमारी समझते हैं, इसलिए वे इसका उचित इलाज नहीं कराते हैं, लेकिन अगर उन्हें यह पता हो कि मधुमेह का इलाज संभव है, तो उनकी ज़िदगी भी खुशियों से भर सकती है।

तो आइए इस लेख के माध्यम से मधुमेह के इलाज के सर्वोत्तम तरीकों से संबंधित आवश्यक जानकारी प्राप्त करते हैं, ताकि मधुमेह के रोगियों की संख्या में गिरावट आ सके।

मधुमेह का इलाज किन तरीकों से किया जा सकता है? (Treatments of Diabetes in Hindi)

 


किसी भी अन्य बीमारी की तरह मधुमेह का भी इलाज संभव है, जिसे निम्नलिखित तरीकों से किया जा सकता है-

 

 

  1. ब्लड शुगर लेवल को मॉनिटर करना- चूंकि, मधुमेह की समस्या मुख्य रूप ब्लड शुगर लेवल के बढ़ने पर होती है। इसलिए इसे ठीक करने का सबसे उपयुक्त तरीका ब्लड शुगर लेवल को मॉनिटर करना है।

     

  2. दवाई लेना- मधुमेह का इलाज करने का सबसे साधारण तरीका दवाईयां लेना है।

     

  3. व्यायाम करना- किसी भी अन्य समस्या की भांति मधुमेह को ठीक करने में भी व्यायाम महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

     

  4. इंसुलिन इंजेक्शन लेना- मधुमेह का इलाज इंसुलिन इंजेक्शन द्वारा भी संभव है, जो शरीर में इंसुलिन को बनाने में सहायता करते हैं।

     

  5. बेरियाट्रिक सर्जरी कराना- जब किसी व्यक्ति का वजन अधिक हो जाता है, तो डॉक्टर उसे बेरियाट्रिक सर्जरी कराने की सलाह देते हैं।

    यह सर्जरी मधुमेह का इलाज करने में भी बेहतर तरीका साबित हो सकती है क्योंकि मधुमेह होने का एक कारण अधिक वजन भी होता है।


 

मधुमेह (डायबिटीज) में किस तरह का भोजन करना चाहिए? (Food to Eat in Diabetes in Hindi)

 


यदि आप भी एक डायबेटिक हैं तो आपको अपने खान-पान पर विशेष ध्यान रखना चाहिए।
 

 

आपको निम्नलिखित तरह का भोजन करना चाहिए-


 

  1. कच्ची, पकी या भुनी हुई सब्जियां खाना

     

  2. हरी सब्जी खाना

     

  3. सलाद खाना

     

  4. तरबूज या जामुन

     

  5. साबुत अनाज

     

  6. प्रोटीन युक्त भोजन करना
     

 

मधुमेह (डायबिटीज) में किस तरह का भोजन नहीं करना चाहिए? (Food to avoid in Diabetes in Hindi)

 


मधुमेह (डायबिटीज) में कुछ विशेष तरह का भोजन नहीं करना चाहिए, क्योंकि यह इस बीमारी को बढ़ा सकती है और यह भोजन आपकी सेहत पर बुरा असर डाल सकता है-

 

 

  1. मीठा भोजन न करना
     

  2. सफेद ब्रेड, पास्ता और चावल न खाना
     

  3. शहद का सेवन न करना
     

  4. डेयरी के फैट युक्त उत्पाद का सेवन न करना
     

  5. पैकेज स्नैक्स न खाना

 

जैसा कि हम सभी यह जानते हैं कि आज कल मधुमेह (Diabetes in Hindi) की बीमारी काफी तेज़ी से बढ़ रही है और यह लगभग सभी उम्र के व्यक्ति को अपनी गिरफ्त में ले रही है।

 

जब किसी व्यक्ति को इस बात का पता चलता है कि उसे डायबिटीज की बीमारी है, तो काफी परेशान हो जाता है और उसे ऐसा लगता है कि अब वह फिर से कभी भी ठीक नहीं हो पाएगा।

 

लेकिन अगर उसे इस बात का पता हो कि वह अपने खान-पान को संतुलित करके ठीक हो सकता है, तो शायद उसकी ज़िदगी भी खुशियों से भर जाए।
 

इस प्रकार हमें उम्मीद है कि आपके लिए इस लेख को पढ़ना उपयोगी साबित हुआ होगा क्योंकि हमने इसमें मधुमेह (डायबेटिज) के डाइट चार्ट से संबंधित आवश्यक जानकारी दी है।

 

यदि आप या आपकी जान-पहचान में कोई व्यक्ति मधुमेह (डायबिटीज) के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहता है तो वह 95558-12112 पर Call करके इसके बारे में मुफ्त सलाह प्राप्त कर सकता है और इसके साथ में यदि वह मेडिकल खर्चों को उठाने में आर्थिक रूप से असमर्थ है तो वह इसके लिए Letsmd से 0% की ब्याज दर पर मेडिकल लोन ले सकता है।