क्या है एवं कैसे की जाती है कीमोथेरेपी? (Chemotherapy in Hindi)

कीमोथेरेपी (Chemotherepy) काफी लोकप्रिय हो रही है, जिसे मुख्य रूप से  कैंसर का इलाज करने के लिए किया जाता है।

वर्तमान समय में कैंसर की वजह से हर साल कई सारे लोगों की मौत हो जाती है क्योंकि वे सही समय पर कैंसर का इलाज शुरू नहीं कराते हैं और जब यह काफी बढ़ जाता है,तब कैंसर से पीड़ित व्यक्ति के लिए कैंसर सर्जरी ही एकमात्र विकल्प बचता है। लेकिन,अक्सर डॉक्टर कैंसर का इलाज करने के लिए कीमोथेरेपी कराने की सलाह देते हैं क्योंकि यह कैंसर सर्जरी से बेहतर विकल्प साबित होती है। इस विषय पर आगे बात करने के लिए पहले कैंसर के बारे में जान लेते हैं  क्योंकि अधिकांश लोगों के मन में कैंसर को लेकर काफी शंकाएं रहती हैं और इसी कारण वे इसका सही इलाज नहीं करा पाते हैं।

“जब मानव-शरीर के किसी अंग में कोशिकाओं का विकास असामान्य तरीके से होते हैं तो उसे कैंसर कहा जाता है।”

हालांकि, कीमोथेरेपी कैंसर का बेहतर इलाज नहीं, लेकिन चूंकि ज्यादातर लोगों को इसकी पूर्ण जानकारी नहीं होती है, इसी कारण वे इसका लाभ नहीं उठा पाते हैं। यदि आपको भी इसकी जानकारी नहीं है, तो इसके लिए आपको इस लेख को जरूर पढ़ना चाहिए क्योंकि हमने इसमें कीमोथेरेपी से संबंधित आवश्यक जानकारी देने की कोशिश की है।

क्या है कीमोथेरेपी? (What is Chemotherapy in Hindi)

कीमोथेरेपी से तात्पर्य इलाज के ऐसे तरीके से है, जिसमें कैंसर की कोशिकाओं को सर्जिकल तरीके से नष्ट किया जाता है। कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने के साथ कीमोथेरेपी कैंसर को शरीर के अन्य अंगों में फैलने में भी सहायता करती है और इस प्रकार यह व्यक्ति को नई ज़िदगी प्रदान करती है।

कीमोथेरेपी के प्रकार कितने हैं? (Types of Chemotherapy in Hindi)

हो सकता है कि कुछ लोग इस बात से अनजान हो कि कीमोथेरेपी मुख्य रूप से 2 प्रकार के होते हैं, जो निम्नलिखित हैं-

  1. इंट्रावेनस कीमोथेरेपी- यह कीमोथेरेपी का मुख्य प्रकार है, जिसे इंट्रावेनस कीमोथेरेपी (Intravenous chemotherapy) कहा जाता है।

    इंट्रावेनस कीमोथेरेपी में एक छोटी-सी ट्यूब को व्यक्ति की बांहो या छाती में डाला जाता है और फिर  उसका इलाज किया जाता है।

  2. ओरल कीमोथेरेपी- यह कीमोथेरेपी का अन्य प्रकार है, जिसे ओरल कीमोथेरेपी (Oral Chemotherapy) कहा जाता है।

    जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है कि इस प्रक्रिया में व्यक्ति के मुंह में दवाई को डालकर उसकी कीमोथेरेपी की जाती है।

कीमोथेरेपी कराने की सलाह कब दी जाती है? (When Chemotherapy is advised?)

निश्चित रूप, से कीमोथेरेपी एक लाभकारी प्रक्रिया है, लेकिन इसके बावजूद डॉक्टर इसे कराने की सलाह उन्हीं को देते हैं, जो निम्नलिखित हैं-

  • कैंसर से पीड़ित होना- कीमोथेरेपी को मुख्य रूप से उन लोगों पर किया जाता है, जो कैंसर से पीड़ित होते हैं।

    कीमोथेरेपी के द्वारा कैंसर की कोशिकाओं को नष्टकर कैंसर से पीड़ित लोगों का इलाज किया जाता है।

  • ट्यूमर का होना- यदि कोई व्यक्ति ब्रेन ट्यूमर से पीड़ित होता है, तो उसके लिए कीमोथेरेपी इलाज का बेहतर विकल्प साबित हो सकता है।

  • किसी अन्य गंभीर बीमारी का होना- अक्सर, कीमोथेरेपी का इस्तेमाल ब्रेस्ट कैंसर, फेफड़ों के कैंसर इत्यादि का इलाज करने  के लिए भी किया जाता है।

  • किसी भी तरह के इलाज का कारगर साबित न होना- जब कैंसर से पीड़ित  व्यक्ति को इलाज के किसी भी तरीके से आराम नहीं मिलता है, तो उस  स्थिति में डॉक्टर उसे कीमोथेरेपी कराने की सलाह देते हैं।

कीमोथेरेपी को कैसे किया जा सकता है?(Procedure of Chemotherapy in Hindi)

कीमोथेरेपी कैंसर से पीड़ित व्यक्ति के लिए किसी वरदान से कम नहीं होती है क्योंकि यह उसे नई ज़िदगी प्रदान करती है।

इस प्रकार यह एक संवेदनशील प्रक्रिया है, जिसमें निम्नलिखित स्टेप शामिल होते हैं-

  • स्टेप 1: ब्लड टेस्ट करना- कीमोथेरेपी की शुरूआत ब्लड टेस्ट के साथ होती है।

    ब्लड टेस्ट के द्वारा इस बात को सुनिश्चित किया जाता है, कि किसी शख्स के खून में कैंसर किस हद तक फैल चुका है।

  • स्टेप 2: एक्स-रे करना- ब्लड टेस्ट के बाद एक्स-रे किया जाता है।

    एक्स-रे के द्वारा कैंसर से पीड़ित अंग की आंतरिक तस्वीर ली जाती है।

  • स्टेप 3: नस में सुई लगाना- जब ब्लड टेस्ट और एक्स-रे के बाद व्यक्ति की त्वचा पर क्रीम लगाई जाती है और फिर उसकी नस में सुई लगाई जाती है।

  • स्टेप 4: कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करना- नस में सुई को लगाने के बाद कैंसर कोशिकाओं को नष्ट किया जाता है।

    ऐसा इंट्रावेनस और ओरल के द्वारा किया जाता है।

  • स्टेप 5: व्यक्ति को सुधार कक्ष में ले जाना- कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने के साथ ही कीमोथेरेपी की प्रक्रिया समाप्त हो जाती है।

    इसके समाप्त होने के बाद व्यक्ति को सुधार कक्ष में ले जाकर उसकी सेहत को मॉनिटर किया जाता है।

कीमोथेरेपी की लागत कितनी है? (Cost of Chemotherapy in Hindi)

जब कोई डॉक्टर किसी शख्स को कीमोथेरेपी कराने की सलाह देते हैं, तो उसके मन में सबसे पहला सवाल यही आता है कि कीमोथरेपी की लागत कितनी है। उसके लिए इसका उत्तर प्राप्त करना काफी महत्वपूर्ण है क्योंकि इसका असर उसकी आर्थिक स्थिरता पर पड़ता है। आमतौर पर,कीमोथेरेपी को काफी मंहगी प्रक्रिया समझा जाता है और इसी कारण कुछ लोग इसका लाभ नहीं उठा पाते हैं। लेकिन, यदि उन्हें यह पता हो कि कीमोथेरेपी एक किफायती प्रक्रिया है, जिसे वे मात्र 5,00,000 से 10,00,000 रूपये के खर्च में करा सकते हैं तो वे भी बेहतर ज़िदगी जी पातें।

कीमोथेरेपी के जोखिम क्या हो सकते हैं? (Side-effects of Chemotherapy in Hindi)

निश्चित रूप से, कीमोथेरेपी के माध्यम से कई सारे लोगों को नई ज़िदगी मिली है, लेकिन, किसी भी अन्य प्रक्रिया की तरह कीमोथेरेपी के भी अपने कुछ जोखिम हैं, जिनकी जानकारी उन लोगों को होनी चाहिए, जो भविष्य में कीमोथेरेपी कराने की योजना बना रहे हैं।

अत:यदि कोई व्यक्ति कीमोथेरेपी को कराने की योजना बना रहा है, तो उसे ये 5 जोखिमों का सामना करना पड़ सकता है-

  1. थकान महसूस होना- कीमोथेरेपी का असर व्यक्ति की मानसिक क्षमता के साथ-साथ उसकी शारीरिक क्षमता पर भी पड़ता है।

    इसी कारण, इसे कराने के बाद कुछ लोगों को काफी थकान महसूस होती है।

  2. बालों का झड़ना- कीमोथेरेपी का प्रमुख लक्षण बालों का झड़ना भी है।

    ऐसा कीमोथेरेपी की गरमाहट के कारण होता है, जिसका असर शरीर के बालों पर पड़ता है।

  3. कब्ज का होना- अक्सर, ऐसा भी देखा गया है कि कीमोथेरेपी कराने के बाद कुछ लोगों के पेट की कार्यक्षमता खराब हो जाती है और उन्हें कब्ज की शिकायत रहने लगती है।

  4. डायरिया का होना- यदि किसी व्यक्ति ने हाल ही में कीमोथेरेपी को कराया है और उसे डायरिया की समस्या हो जाती है।

    तो, उसे इसकी सूचना अपने डॉक्टर को देनी चाहिए ताकि वे इसका इलाज सही तरीके से कर सकें।

  5. रोग-प्रतिरोधक क्षमता का कमजोर होना- जैसा कि ऊपर स्पष्ट किया गया है कि कीमोथेरेपी का असर व्यक्ति की शारीरिक के साथ-साथ मानसिक क्षमता पर भी पड़ता है।

    इसके साथ-साथ कीमोथेरेपी की वजह से उसकी रोग-प्रतिरोधक क्षमता (Immunity Power) भी कमजोर हो सकती है।

कीमोथेरेपी कराने के क्या लाभ हैं? (Benefits of Chemotherapy in Hindi)

जैसा कि ऊपर स्पष्ट किया गया है कि कीमोथेरेपी के दौरान लोगोंं को काफी सारे जोखिमों से गुजरना पड़ता है, लेकिन इसके बावजूद कीमोथेरेपी को कराने के कई सारे लाभ भी हैं, जिसकी वजह से इसका सहारा कई सारे लोग ले रहे हैं।

अत: यदि कोई व्यक्ति कीमोथेरेपी को कराता है, तो उसे निम्नलिखित लाभ मिल सकते हैं-

  • कैंसर की संभावना को कम करना- कीमोथेरेपी कराने का सबसे बड़ा लाभ कैंसर की संभावना का कम होना है।

    इसी वजह से ज्यादातर डॉक्टर लोगों को कीमोथेरेपी कराने की सलाह देते हैं ताकि उनके शरीर में कैंसर की संभावना कम हो सके और वे बेहतर ज़िदगी जी सकें।

  • ट्यूमर के आकार को कम करना- कई बार,कीमोथेरेपी को ट्यूमर को कम करने के लिए किया जाता है।

    इस प्रकार कीमोथेरेपी के द्वारा ट्यूमर के आकार को कम किया जाता है और  व्यक्ति को इस बीमारी से निजात दिलाई जाती है।

  • जीवन दर को सुधारना- जैसा कि ऊपर स्पष्ट किया गया है कि कीमोथेरेपी कैंसर और ट्यूमर का इलाज करने का सर्वोत्तम तरीका है।

    इसी कारण कीमोथेरेपी लोगों के लिए रामबाण तरीका साबित होकरउनके जीवन दर को सुधारती है। अत: कैंसर से पीड़ित व्यक्ति को अधिक परेशान होने की जरूरत नहीं है और जितना जल्दी हो  उतना कीमोथेरेपी का कराकर अपनी ज़िदगी को खुशियों से भरना चाहिए।

  • शरीर में पौषण की मात्रा को बढ़ाना- कीमोथेरेपी का अद्भूत विशेषता व्यक्ति को सेहतमंद बनाना और उसके शरीर में पौषण की मात्रा को बढ़ाना है।

    इस प्रकार, कीमोथेरेपी लोगों की नई ज़िदगी नहीं दे रही है बल्कि उन्हें  स्वस्थ शरीर प्रदान करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है।

पहले के जमाने, में कैंसर को काफी गंभीर बीमारी समझा जाता है क्योंकि उस समय कैंसर के इलाज के तरीके विकसित नहीं हो सके थे, लेकिन अब यह स्थिति काफी हद तक बदल गई है क्योंकि अब कैंसर का इलाज कई सारे तरीकों से किया जा सकता है।

इनमें कीमोथेरेपी (Chemotherapy) भी शामिल है, जो कैंसर को काफी हद तक समाप्त करने में सहायक साबित होती है। लेकिन, चूंकि, अधिकांश लोगों को कीमोथेरेपी की पूर्ण जानकारी नहीं है इसी कारण वे कैंसर का सही इलाज नहीं करा पाते हैं। लेकिन, यदि उन्हें कैंसर और कीमोथेरेपी की पूर्ण जानकारी हो तो शायद वे खुशहाल ज़िदगी जी पातें। अत: हमें उम्मीद है कि आपके लिए इस लेख को पढ़ना उपयोगी साबित हुआ होगा क्योंकि इसमें हमने कीमोथेरेपी की पूर्ण जानकारी देने की कोशिश की है।

इसके साथ में हम यह भी आशा करते हैं कि यदि किसी व्यक्ति को कैंसर  की बीमारी है, तो वह जल्द से जल्द ठीक हो जाए क्योंकि फिर से बेहतर ज़िदगी जी पाएं।

यदि आप  या आपकी जान-पहचान में कोई व्यक्ति किसी बीमारी और उसके सटीक इलाज की अधिक जानकारी प्राप्त करना चाहता है तो वह इसके लिए +91-8448398633 पर Call करके उसकी मुफ्त सलाह प्राप्त कर सकता है।`1

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *