लिपोसक्शन सर्जरी से घटायें कम वक्त में मोटापा! (Liposuction Surgery Hindi)

लिपोसक्शन (Liposuction Surgery Hindi) से तात्पर्य ऐसे शल्य चिकित्सा विधि से है, जिसे शरीर के किसी विशेष अंग जैसे पेट,जांघ,कूल्हों इत्यादि पर मौजूद बढ़ी चर्बी (Belly Fat) को हटाने के लिए किया जाता है।

इस तकनीक का उपयोग मुख्य रूप से उस अंग के वसा को हटाने के लिए किया जाता है, जिस पर डाइट और व्यायाम का कोई असर नहीं होता है।

वस्तुत: लिपोसक्शन सर्जरी का अर्थ मोटापा घटाना नहीं है, अपितु इसके माध्यम से शरीर के किसी विशिष्ट अगं पर मौजूद बढ़ी चर्बी  अतिरिक्त वसा को निकाला जाता है।

यदि आप मोटापे से परेशान हैं या आपका वजन अधिक है तो इसके लिए आप अन्य तरीकों जैसे डाइट प्लान, सर्जिकल मेथड जैसे बेरियाट्रि्क सर्जरी इत्यादि को अपना सकते हैं।

लिपोसक्शन सर्जरी  केवल आपकी कुछ बेहतर दिखने में सहायता कर सकती है, लेकिन यह आपको बिल्कुल नया शरीर प्रदान नहीं करती है।

लिपोसक्शन सर्जरी के बाद शरीर का सौंदर्य वैसी ही रहता है जैसा इससे पहले था।

कभी-कभी लिपोसक्शन सर्जरी  को अन्य सर्जरियों जैसे अब्डोमिनोप्लास्टी, फेस लिफ्ट, ब्रेस्ट एनहांसमेंट सर्जरी इत्यादि के साथ मिलाकर किया जाता है।

ये सारी सर्जरियां आपके शरीर के सौंदर्य को बढ़ा सकती हैं।

लिपोसक्शन के कितने प्रकार होते हैं? (Types of Liposuction in Hindi)

  1. ट्यूमेसेंट लिपोसक्शन: ट्यूमेसेंट लिपोसक्शन  ऐसी तकनीक है, जो शरीर के किसी विशिष्ट अंग की त्वचा के नीचे मौजूद वसा  को एनेस्थीसिया देती है और जिसके बाद लिपोसक्शन को शुरू किया जाता है।

    इसमें सक्शन से पहले अधिक मात्रा में सोल्यूशन को इंजेक्ट किया जाता है। इस सॉल्यूलेशन में लिडोसाइने, एपिनेफ्रीन और नमक का मिश्रण होता है।

    यह सोल्यूशन रक्त वाहिकाओं को सिकोड़ता है और इससे सर्जरी के दौरान रक्त की कमी हो जाती है और इसके कारणवश प्रक्रिया के बाद होने वाला दर्द और सूजन भी कम हो जाते हैं।

    यह नमक का सोल्यूशन है, जो वसा के जमाव को कम करता है।

इस सॉल्यूशन के बाद डॉक्टर इलाज के लिए आसपास में छोटे चीरे लगाते हैं और प्रवेशनी (कन्वेली) लगाते हैं, जो सक्शन मशीन से जुड़ी होती हैं।

शरीर के अगले और पिछले हिस्से पर मौजूद वसा को कम करने के साथ-साथ उसे कलेक्शन सिस्टम में जमा किया जाता है।

लिपोसक्शन सर्जरी के समाप्त होने के बाद व्यक्ति को ढिलेढाले कपड़े पहनने की सलाह दी जाती है, ताकि  उसकी त्वचा को संभावित खतरे से बचाया जा सके।

 

  1. अल्ट्रासाउंड असिस्टेड लिपोसक्शन (यूएएल): अल्ट्रासोनिक असिस्टेड लिपोसक्शन वसा को कम करने की ऐसी प्रक्रिया है, जिसमें वसा को कम करने से पहले उसकी कोशिकाओं को गला दिया जाता है।

    लिपोसक्शन सर्जरी की प्रक्रिया को अल्ट्रासाउंड की देखरेख में अल्ट्रासाउंड तरंगों की सहायता से किया जाता है, जिसमें वसा कोशिकाओं को केंद्र में रखा जाता है।

    इस प्रकार की कॉस्मेटिक सर्जरी को अल्ट्रासोनिक लिपोसक्शन के नाम से भी जाना जाता है।

  2. लेज़र असिस्टेड लिपोसक्शन (एलएएल): लेज़र असिस्टेड लिपोसक्शन से तात्पर्य ऐसी प्रक्रिया से है, जिसमें शरीर के एक विशिष्ट अंग पर मौजूद वसा को हटाने और त्वचा को उचित रूप प्रदान करने के लिए लेज़र (स्लिमलिपो, स्मार्टलिपो आदि) का प्रयोग करके किया जाता है।

    इसे लेज़र लिपो भी कहा जाता है, जिसमें लेज़र ऊर्जा से वसा की कोशिकाओं को काटा जाता है।

लिपोसक्शन सर्जरी को उपचार करने के अंग पर भी बांटा जा सकता है। उदाहरण के लिए लिपोसक्शन- एब्डोमेन/पेट, कंधे, जांघ, पुरूष की छाती, ब्रेस्ट, कूल्हे, ठोड़ी, गाल, पीठ इत्यादि।

  • लिपोसक्शन- वन एरिया- जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है कि इस प्रक्रिया में शरीर के किसी एक हिस्से जैसे जांघ,ठोड़ी, कूल्हे इत्यादि के अतिरिक्त वसा को निकाला जाता है।

  • लिपोसक्शन- एब्डोमेन/टमी: लिपोसक्शन- एब्डोमेन/टमी से तात्पर्य ऐसी प्रक्रिया से है, जिसमें पेट पर मौजूद अतिरिक्त वसा को निकाला जाता है।

लिपोसक्शन सर्जरी से पहले कौन-कौन से कार्य किए जाते हैं? (Pre-Procedure of Liposuction Surgery in Hindi)

लिपोसक्शन सर्जरी को कराने से पहले कुछ महत्वपूर्ण कार्यों को करना चाहिए क्योंकि यह इन बातों को निर्धारित करती है कि यह कितनी सफल होगी।

ये महत्वपूर्ण कार्य इस प्रकार हैं-

  • सर्जरी सेंटर का चयन करना- लिपोसक्शन सर्जरी  कराने से पहले सर्जरी सेंटर या अस्पताल का चयन करना काफी महत्वपूर्ण होता है।

    इस बात को जरूर सुनिश्चित करें कि आप जिस सेंटर या अस्पताल में लिपोसक्शन सर्जरी को कराने वाले हैं, वह पूर्ण रूप से सुरक्षित हो और उसका लिपोसक्शन सर्जरी से संबंध में अच्छा रिकॉर्ड हो।

  • सर्जन से परामर्श लेना- लिपोसक्शन सर्जरी के लिए उपयुक्त सेंटर या अस्पताल का चयन करने के बाद इसे करने वाले सर्जन से परामर्श लेना भी महत्वपूर्ण होता है।

    उससे आप लिपोसक्शन सर्जरी  के बारे में अन्य आवश्यक जानकारी जैसे लिपोसक्शन सर्जरी  की प्रक्रिया, लिपोसक्शन की लागत, अस्पताल में रहने की अवधि इत्यादि प्राप्त कर सकते हैं।

  • स्वास्थ्य जांच करना- लिपोसक्शन सर्जरी को करने से पहले सर्जन आपके स्वास्थ्य की अच्छी तरह से जांच करते हैं।

    इसके लिए वह इस बात की पुष्टि करते हैं कि आपको किसी तरह की बीमारी तो नहीं है और आप किसी तरह के नशीले पदार्श जैसे शराब, ध्रूमपान इत्यादि का सेवन तो नहीं करते हैं, इसके साथ में वे इस बात का भी पता लगाते हैं कि आप किसी तरह की दवाई तो नहीं ले रहे हैं।

लिपोसक्शन सर्जरी को कैसे किया जाता है? (Procedure of Liposuction Surgery in Hindi)

लिपोसक्शन सर्जरी  में कुछ घंटों का ही समय लगता है। जिसमें कुछ स्टेप्स शामिल होते हैं, जो इस प्रकार हैं-

  • स्टेप1: एनेस्थीसिया देना- लिपोसक्शन सर्जरी  की शुरूआत में व्यक्ति को एनेस्थीसिया दिया जाता है, ताकि उसे इस दौरान किसी प्रकार का दर्द महसूस न हो।

  • स्टेप 2: चीरा लगाना- व्यक्ति को एनेस्थीसिया देने के बाद, डॉक्टर शरीर के उस हिस्से पर चीरा लगाते है, जहां पर लिपोसक्शन सर्जरी को करना है। इसके बाद वे एक पतली ट्यूब, या प्रवेशनी (कन्नल) को उस चीरे में डालते हैं।

    शरीर में मौजूद अतिरिक्त वसा को सर्जिकल वैक्यूम या सिरिंज का उपयोग करके शरीर से बाहर निकाल दिया जाता है।

  • स्टेप 3: व्यक्ति के स्वास्थ को मॉनिटर करना- यह लिपोसक्शन सर्जरी  का अंतिम स्टेप होता है, जिसमें डॉक्टर व्यक्ति के स्वास्थ को मॉनिटर करते हैं। इससे इस बात की पुष्टि होती है कि वह लिपोसक्शन के बाद ठीक है या नहीं

दिल्ली-NCR में लिपोसक्शन सर्जरी की कितनी लागत है? (Cost of Liposuction Surgery in Hindi)

लिपोसक्शन सर्जरी  एक महंगी सर्जरी है, जिसकी लागत बहुत सारे तत्वों जैसे इलाज करने के तरीके, अस्पताल, निकाले जाने वाले वसा की मात्रा इत्यादि पर निर्भर करती है।

इसलिए किसी भी व्यक्ति के लिए लिपोसक्शन सर्जरी  को कराने से पहले इसकी लागत के संबंध में प्रश्न आना स्वाभाविक है।

लिपोसक्शन सर्जरी  की औसतन लागत 80,000/- से 1,25,000/- रूपये होती है, लेकिन आप इंटरनेट पर लिपोसक्शन सर्जरी के लिए दिल्ली -NCR के सर्वेश्रेष्ठ अस्पताल की तलाश कर सकते हैं और वहां पर लिपोसक्शन सर्जरी को करा सकते हैं।

लिपोसक्शन सर्जरी के कौन-कौन से जोखिम होते हैं? ( Liposuction Surgery Side-Effects in Hindi)

हालांकि, लिपोसक्शन सर्जरी अतिरिक्त वसा को निकालने का सबसे करागर उपाय है। लेकिन इसके बावजूद इसके कुछ जोखिम भी होते हैं, जिसके बारे में जानना भी काफी महत्वपूर्ण होता है।

लिपोसक्शन सर्जरी  के जोखिम निम्नलिखित हैं-

  • अतिरिक्त रक्तस्राव होना

  • संक्रमण होना

  • अंग का खराब होना

  • चोट का निशान पड़ना

आज कल के दौर में बहुत सारे लोग अनियमित बॉडी शेप से परेशान हैं, जिसके लिए वे हर संभव कोशिश जैसे दवाई लेना, व्यायाम करना, योगा करना इत्यादि करते हैं। लेकिन जब उन्हें उन तरीकोें से सही बॉडी शेप नहीं मिल पाता है, तब वे काफी निराश होते हैं।

अगर उन्हें यह बात पता हो कि लिपोसक्शन सर्जरी से मोटापा घटाना संभव है, तो शायद वे इसका लाभ उठा सकें।

इसलिए हमें यह उम्मीद है कि आपके लिए इस लेख को पढ़ना उपयोगी साबित हुआ होगा क्योंकि हमने इसमें लिपोसक्शन सर्जरी  की आवश्यक जानकारी दी है।

अंत में हम आपसे यही कहना चाहते हैं कि आप लिपोसक्शन सर्जरी को अपनाएं और मोटापा घटाएं।

अगर आप या आपकी जान-पहचान में कोई व्यक्ति लिपोसक्शन सर्जरी (Liposuction Surgery in Hindi) के बारे में अधिक जानकारी जानना चाहता है तो वह 951118-12112 पर Missed Call करके Letsmd से संपर्क कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *